Menu
Menu
Menu
होम » खबरें » आस्था

आस्था

महिला आईएएस अफसर को हवन करने से रोक दिया, महिला अफसर ने पढ़ाया ऐसा पाठ कि…

समाज जिसकी अच्छाई की हम अक्सर दुहाई देते है कभी कभी उसका ऐसा चेहरा भी दिखाई दे जाता है जिसके आगे सभी को शर्मसार होना पड़ता है। लेकिन ऐसे में कुछ जागरुक लोग हार कर वापस जाने की बजाय उस रुढ़ीवादी सोच पर ही प्रहार कर उसे बदल देते है। ऐसा ही कुछ हुआ हिमाचल प्रदेश में, जहां एक महिला आआएएस अफसर को मंदिर में हवन करने से सिर्फ इस लिए रोक दिया गया क्योंकि वह एक महिला है। दरअसल, हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले स्थित शूलिनी माता मंदिर में अष्‍टमी के मौके पर हवन किया जा रहा था। इस

ब्रह्मा जी का पुरे विश्व मे एक ही मंदिर जानिए क्यों ?

हिंदू ग्रंथों और पुराणों के अनुसार तीन प्रधान देव माने जाते है ब्रह्मा जी, विष्णु जी और महेश जी ! ब्रह्मा जी इस संसार के रचना कार है विष्णु पालन करता है और महेश संहारक ! हमारे देश मै विष्णु जी और महेश जी के हज़ारों मंदिर है वहीं खुद की पत्नी सावित्री के श्राप के कारण ब्रह्मा जी का पुरे भारत मै सिर्फ एक ही मंदिर है जो की राजस्थान के प्रसिद्ध तीर्थ पुष्कर में स्थित है ! क्यों दिया माता सावित्री ने ब्रह्मा जी को श्राप ? हिन्दू धर्म ग्रन्थ में पद्म पुराण के मुताबिक एक समय धरती

 जानिए चमत्कारी और रहस्यमय मंदिर तिरुपति बालाजी की कहानी !

भारत के सबसे चमत्कारिक और रहस्यमय मंदिरों मे से एक है भगवान् तिरुपति बालाजी मंदिर ! भगवान् तिरुपति बालाजी के दरबार मै गरीब और अमीर दोनों सच्चे श्रद्धाभाव के साथ अपना सर झुकाते है ! ऐसा माना जाता है यह मंदिर सिर्फ भारत ही नही बल्कि पुरे विश्व के अमीर मंदिरों मे से एक है ! हर साल लाखो लोग तिरुमाला की पहाड़ियों पर स्थित इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर का आशीर्वाद लेने के लिए एकत्र होते है ! मान्यता है की भगवान् बालाजी अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमाला मे निवास करते है ! ऐसी मान्यता है जो भक्त

जानिए क्यों यह शिव मंदिर दिन में दो बार हो जाता है गायब?

वैसे तो भगवान शिव के बहुत से मंदिर है . लेकिन इन रहस्मय मंदिर के बारे मैं बहुत कम लोग जानते है.  पहला मंदिर है (स्तंभेश्वर महादेवमंदिर) – यह मंदिर अरब सागर के बीच कैम्बे तट पर स्थित है 150 साल पहले खोजे गए इस मंदिर का उल्लेख महाशिव पुराण के रूद्र सहिता मे मिलता है इस मंदिर के शिवलिंग का आकार चार फुट ऊंचा और 2 फुट के व्यास वाला है ! महादेव का यह स्तंभेश्वर मंदिर सुबह और शाम दिन मे दो बार पल भर के लिए गायब हो जाता है और कुछ देर बाद उसी जगह पर

जानिए मेहंदीपुर बालाजी की रहस्मय कहानी !

भक्ति दर्शन- मेहंदीपुर – बालाजी बहुत प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर है जो की राजस्थान के दौसा जिले मै स्थित है मेहन्दीपुर मैं एक ऐसी रूहानी अदालत लगती है जहां शैतानी रूहो की किस्मत का फैसला देवताओ द्वारा किया जाता है और इंसानों पर हावी इन शैतानी ताकतों को सजा देकर शरीर से बहार निकाला जाता है ! इस समूचे भ्रमांड के कण कण में ऊर्जा यानि एनर्जी व्याप्त है और हर चीज़ की तरह इस ऊर्जा के भी दो पहलु होते है (सकारात्मक और नकारात्मक) सकारात्मक यानी पॉजिटिव कण कण में ऊर्जा यानि एनर्जी व्याप्त है और हर चीज़ की