Menu
Menu
Menu
होम » चुनाव

चुनाव

सुशील मोदी नहीं बनेंगे बिहार के उप-मुख्यमंत्री, नीतीश कुमार होंगे मुख्यमंत्री, भाजपा की क्या है मजबूरी?

एनडीए में BJP के पास सबसे ज्यादा 74 विधायक हैं। जबकि जदयू के 43 विधायक हैं। वहीं सहयोगी दल हम और वीआईपी के पास 4-4 विधायक हैं। पटना- बिहार में सत्तारूढ़ गठबंधन एनडीए-NDA की रविवार को बैठक हुई। इसमें नीतीश कुमार को सर्वसम्मति से बिहार एनडीए विधायक दल का नेता चुन लिया गया है। लेकिन इस बार सुशील कुमार मोदी बिहार के उप-मुख्यमंत्री नहीं होंगे। उनकी जगह डिप्टी सीएम किसे बनाया जाएगा, इसका अभी पता नहीं चला है लेकिन तारकिशोर प्रसाद को उपमुख्यमंत्री पद दिए जाने की खबर है। एनडीए विधायक दल का नेता चुने के बाद नीतीश कुमार नई

यूपी पंचायत चुनाव 2020 : दीपावली बाद ग्राम प्रधान इलेक्शन की तैयारियां तेज करेगी भाजपा देखें पूरी रिपोर्ट

चन्द्र प्रकाश शुक्ला, भाजपा नेता की फेसबुक वाल से साभार विधानसभा उपचुनाव की सफलता के बाद प्रदेश भाजपा ने अपना ध्यान पंचायत चुनावों पर केंद्रित कर दिया है। गांवों की सरकार में मजबूत पैठ के लिए पार्टी ने कई स्तर पर तैयारियां पूरी भी कर ली हैं। दीपावली के बाद पंचायत चुनावों को लेकर तमाम रणनीति पार्टी स्तर से बनाई जाएगी। यह पहला मौका होगा, जब भाजपा वृहद स्तर पर पंचायत चुनाव में कूदेगी। राज्य में पंचायत चुनाव पार्टी सिंबल पर नहीं होते हैं। इस चुनावों में राजनीतिक दल समर्थित प्रत्याशियों के माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज कराते आ रहे

BIHAR ELECTION: बहुमत न होने के बाद भी तेजस्वी का सरकार बनाने का दावा, क्या हैं विकल्प?

बिहार विधानसभा चुनावों के नतीजे आ गए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में NDA ने 243 विधानसभा सीटों वाली विधानसभा में 125 सीटें हासिल की हैं। वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेतृत्व वाले महागठबंधन ने 110 सीटों पर जीत हासिल की है। आठ सीटें अन्य के खाते में गई हैं। बहुमत न मिलने के बाद भी RJD के तेजस्वी यादव ने गुरुवार को दावा किया कि बिहार में उनकी ही सरकार बनेगी। यदि वाकई में ऐसा है तो यह कैसे संभव है? आइए देखते हैं…. कैसे बन सकते हैं तेजस्वी मुख्यमंत्री? बिहार विधानसभा में बहुमत के लिए 122

असदुद्दीन AIMIM ने बिगाड़ा तेजस्वी का खेल, एनडीए को मिली जीत की वजह बने ओवैसी, पूरी रिपोर्ट देखें

पटना– ओवैसी ने तेजस्वी को धता बताते हुए महागठबंधन की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। पर इन चुनावों में सबसे तगड़ा झटका तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाले आरजेडी को लगा है। अब तक मुस्लिम वोट बैंक को अपने साथ जोड़े रखने वाली पार्टी को सीमांचल इलाके में असदुद्दीन औवेसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने जोर का झटका दिया है। ओवैसी की पार्टी ने इस इलाके की 5 सीटों पर कब्जा जमाया है। इस जीत के साथ ही ओवैसी के हैदराबाद स्थित घर पर उनके समर्थकों ने जमकर आतिशबाजी की। AIMIM का जलवा, आरजेडी हुई फेल AIMIM ने बिहार

बिहार में आधी रात को साफ हुई चुनावी पिक्चर, एनडीए को मिलीं 125 सीटें

पटना– बिहार विधानसभा की 243 सीटों पर तीन चरणों में हुए मतदान की मंगलवार को मतगणना शुरू हुई। मतगणना शुरू होने पर रुझानों में राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेतृत्व वाले महागठबंधन (Mahagathbandhan) ने एनडीए पर बढ़त बना ली। ये बढ़त सुबह के 11 बजे तक रही और फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) ने बहुमत के लिए महागठबंधन पर अपनी बढ़त बना ली। रुझानों में कभी एनडीए (NDA) तो कभी महागठबंधन आगे पीछे होता रहा। लेकिन अंत में बाजी एनडीए के हाथ लगी। बिहार बीजेपी ने एनडीए को बहुमत मिलने का दावा किया। बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा