Menu
Menu
Menu
होम » चुनाव » चुनाव 2020 » असदुद्दीन AIMIM ने बिगाड़ा तेजस्वी का खेल, एनडीए को मिली जीत की वजह बने ओवैसी, पूरी रिपोर्ट देखें

असदुद्दीन AIMIM ने बिगाड़ा तेजस्वी का खेल, एनडीए को मिली जीत की वजह बने ओवैसी, पूरी रिपोर्ट देखें

thekhabarilal

thekhabarilal

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on skype
Share on whatsapp
Share on telegram

पटना– ओवैसी ने तेजस्वी को धता बताते हुए महागठबंधन की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। पर इन चुनावों में सबसे तगड़ा झटका तेजस्वी यादव के नेतृत्व वाले आरजेडी को लगा है। अब तक मुस्लिम वोट बैंक को अपने साथ जोड़े रखने वाली पार्टी को सीमांचल इलाके में असदुद्दीन औवेसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन ने जोर का झटका दिया है। ओवैसी की पार्टी ने इस इलाके की 5 सीटों पर कब्जा जमाया है। इस जीत के साथ ही ओवैसी के हैदराबाद स्थित घर पर उनके समर्थकों ने जमकर आतिशबाजी की।

AIMIM का जलवा, आरजेडी हुई फेल
AIMIM ने बिहार चुनाव में 20 उम्मीदवार खड़े किए थे, जिनमें से 14 कैंडिडेट सीमांचल के इलाके में थे। ओवैसी की पार्टी ने इनमें से 5 सीटें जीती और बाकी के 15 सीटों पर वोट काटकर आरजेडी को तगड़ा नुकसान पहुंचाया। AIMIM ने अमौर, कोचाधमान, बहादुरगंज, बैसी और जोकीहाट सीट पर बड़ी जीत दर्ज की।

आरजेडी के गढ़ में AIMIM की बंपर जीत
आरजेडी के गढ़ माने जाने वाले बैसी में AIMIM के उम्मीदवार सईद रुकनुद्दीन ने आरजेडी के हाजी अब्दुस सुभान को तीसरे नंबर पर धकेल दिया। बीजेपी के उम्मीदवार विनोद कुमार यहां दूसरे नंबर पर रहे। ओवैसी ने इन इलाकों में जमकर प्रचार किया था और CAA और NRC के मुद्दे पर केंद्र सरकार पर जमकर हमला किया था। बता दें कि 2019 में किशनगंज उपचुनाव में AIMIM ने पहली बार जीत का स्वाद चखा था।

वेद प्रकाश पांडेय का विश्लेषण:

आलोचनाओं को पीछे छोड़ तेजस्वी ने लड़ी ये लड़ाई
चुनाव से पहले तेजस्वी यादव कोरोना के समय बिहार से लगातार गायब रहे, इसकी बहुत आलोचना हुई। लोग कहते थे कि उन्हें बिहार में रहना चाहिए, जमीन पर नहीं दिखे। इसकी चर्चा होती थी कि आखिर तेजस्वी इतना वाकओवर क्यों दे रहे हैं। तब उनके घर में पारिवारिक कलह भी चल रहा था। उनके भाई तेजप्रताप और उनकी पत्नी ऐश्वर्या के बीच केस चल रहा है। मीसा भारती को लेकर भी चर्चाएं थी कि वो राजनीति में अपनी कद बढ़ाना चाहती हैं। इन सबके बीच तेजस्वी यादव दिल्ली में कैंप करते रहे, कई बार वो बाहर भी गए। एक बार ऑन एयर चार्टर्ड प्लेन में जो उन्होंने पिछला बर्थडे मनाया, उसे लेकर कहा गया देखो- कैसे एक गरीब का बेटा एयरप्लेन में बैठकर बर्थडे केक काट रहा है। इन सब चीजों को पीछे छोड़ते हुए तेजस्वी यादव ने यह लड़ाई लड़ी। उनका बैकग्राउंड, इस लड़ाई से पहले बहुत कमजोर था। अगर हम कहें कि इस जुलाई से पहले या अगस्त तक की भी चर्चा कर लें तो कोई आरजेडी का नामलेवा नहीं था।

तेजस्वी यादव की पॉजिटिव पॉलिटिक्स
इलेक्शन कमीशन ने जब चुनाव की डेट की घोषणा की तब भी हमें यह लग रहा था कि यह एकतरफा चुनाव है, इसमें आरजेडी के लिए कहीं कोई जगह नहीं है। एनडीए 200 के आसपास सीटें ले आएगा। लेकिन इसके बाद जिस तरीके से तेजस्वी यादव ने पॉजिटिव पॉलिटिक्स की, उन्होंने ये नहीं कहा कि मैं ये कर दूंगा या वो कर दूंगा या इस जाति को यह कर दूंगा। उन्होंने 10 लाख नौकरियों का वादा किया। हां ये जरूर है कि उनके तरीके और उस पर क्या होगा, वो इसे कैसे करेंगे, इसे लेकर जेडीयू और भारतीय जनता पार्टी ने उनपर प्रहार किए। लेकिन हुआ क्या, वो एजेंडा सेटर बन गए। अपने पिता लालू यादव की तरह। दूसरी ओर नीतीश कुमार से लेकर पीएम मोदी तक इसे फॉलो करते रहे, सारा प्रचार तेजस्वी जो कह रहे हैं वो संभव नहीं है, ये बताने के लिए किया।

नीतीश ने चेंज किया अपना एजेंडा!
जेडीयू ने यह देखा कि वो अपने नीतीश कुमार के इस पांच साल के कार्यकाल को जनता के बीच अच्छे से नहीं पहुंचा पा रही है, क्राइम और करप्शन के मुद्दे पर घिरते जा रहे हैं तो उन्होंने एजेंडा चेंज किया। जेडीयू ने तय किया कि अब हम लालू-राबड़ी के उस 15 साल के कार्यकाल की जनता को याद दिलाते हैं और डराते हैं, जिसके कारण नीतीश कुमार पहली बार सत्ता में आए थे। अब सोचिए जो मुख्यमंत्री चौथी बार फुल टर्म मांग रहा हो , वह पहली बार के एजेंडे यानी 2005 के एजेंडे पर चुनाव लड़े, यह कहीं न कहीं नीतीश कुमार की बड़ी कमजोरी साबित हुई। वो यह कहते रहे कि आरजेडी जीती तो ‘जंगलराज’ लौटेगा फिर आपकी बहू-बेटियां कैसे निकलेंगी। ये जो नीतीश का नेगेटिव कैंपने था, इसके कारण कई बार वो अपना आपा खो बैठे। जब युवाओं ने जो 65 लाख यूथ जो पहली वोट देने वाले थे, उनमें से कुछ लोगों ने कांटी मुजफ्फरपुर में उनका विरोध किया, स्लोगन लहराए, जब उनके ऊपर प्याज फेंका गया तब नीतीश ने वो गरिमा नहीं दिखाई जिसके लिए वो जाने जाते हैं।

नीतीश कुमार के खिलाफ लोगों में था गुस्सा
नीतीश कुमार का आपा खो देना और कहना कि अपने मां-बाप से जाकर पूछों, उस समय क्या होता था, उस समय स्कूलों की हालत क्या होती थी। जबकि हमने देखा कि बिहार में स्कूलों की व्यवस्था और बिल्डिंग इतनी अच्छी है कि सब उसकी तारीफ करते हैं लेकिन पढ़ाई को लेकर हमने हर जगह सुना कि 30 साल के लिए हमारी पीढ़ी बर्बाद हो गई। कई बुजुर्गों ने कहा कि हम अपने पोते-पोतियों को स्कूल भेजकर क्या करेंगे। जो शिक्षामित्र हैं, जो नियोजित शिक्षक रखे गए हैं उनकी योग्यता पर सवाल उठ रहे हैं।नेशनल लेवल के सर्वे होते हैं उनमें 8वीं कक्षा के बच्चे दूसरी कक्षा के सवाल हल नहीं कर पा रहे हैं। खासकर इंग्लिश और मैथेमेटिक्स में, जिसको लेकर बिहार के छात्र बहुत जागरूक रहे हैं। इंजीनियरिंग की परीक्षा में, मेडिकल की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया है, ऐसे में यह सोचने वाली बात है कि ऐसा क्यों हुआ। इसको लेकर नीतीश कुमार के खिलाफ गुस्सा था।

नीतीश की शराबबंदी से लगभग 100 गुना बढ़ गई थाने की कमाई!
कुमार ने शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार ने महागठबंधन की सरकार में रहते हुए अप्रैल 2016 में शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार का बराबर यह कहना होता है कि “वो एक मीटिंग कर रहे थे तब पीछे बैठी हुई एक दीदी ने कहा कि शराब बंद कर दो, तभी मैंने तय किया शराब बंद कर दूंगा।” अगर देखें तो नीतीश कुमार का यह फैसला सामाजिक स्तर पर बहुत अच्छा है। महिलाओं ने इसको हाथोंहाथ लिया लेकिन इम्पलिमेंटेशन का का क्या हुआ। अगर आज देख लें तो साढ़े तीन लाख लोग शुरू से लेकर अबतक जेल गए, जिनमें से कई लोगों को जमानत मिल गई। लेकिन वो प्रक्रिया जारी है। आप उसके लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बना रहे हैं। जब हमारी छोटी अदालतों में लाखों केस, जिनमें घरेलू विवाद से लेकर जमीन विवाद, मर्डर केस, लूट आदि के मामले लंबित हैं, ऐसे में आप सिर्फ शराबबंदी के केस की सुनवाई करें ये कहां तक उचित है। जेल कम हैं और कैदियों को भेड़-बकरियों की तरह ठूंसा जा रहा है, ये कहां तक उचित है। मांझी जो लौटकर एनडीए में आए हैं, जब वो एनडीए छोड़कर गए थे तब उन्होंने कहा कि यह जो शराबबंदी है, उससे सिर्फ मुसहर, पासवान समाज जैसे निचली जातियों पर असर पड़ रहा है क्योंकि वो सप्लायर बनकर रह गए हैं। और जो नहीं बन पाए वो उसके कारोबार में लग गए। कई नेताओं की मिलीभगत शुरू हो गई। बिहार के जो थाने थे वहां क्या शुरू हुआ, वहां शराब को लेकर एक कैंपेन शुरू हुआ और आज चार साल बाद थाने के जो सारे दारोगा हैं, उनका एक ही लक्ष्य है कि कहां शराब की खेप आई। अंदरखाने की बात करें तो थाने की कमाई लगभग 100 गुना बढ़ गई है।

सुशासन बाबू की छवि पर लौटने का नीतीश के पास मौका
इस बात से आप समझ सकते हैं कि जब पूरा पुलिस महकमा पूरी तरह नीतीश कुमार की शराबबंदी को लागू कराने में जुटा रहेगा तो दूसरे अपराधों का क्या होगा। नीतीश ने कहा कि हम थाने में दो ब्रांच बनाएंगे। एक दारोगा दर्ज मामलों की जांच करेगा तो दूसरा लॉ एंड ऑर्डर देखेगा। लेकिन आज की डेट में ऐसा किसी थाने में लागू हो नहीं हो पाया है। आज आप देखें तो एक ही दारोगा जांच भी करता है और लॉ एंड ऑर्डर भी देख रहा है। वो चुनाव भी कराता है और साथ में इनवेस्टिगेशन भी करता है। मुझे लगता है कि नीतीश कुमार ने अंत भला तो सब भला के नाम पर जो ये आखिरी मौका लिया है उसका इस्तेमाल अपनी सुशासन बाबू वाली छवि वापस पाने के लिए करेंगे।

thekhabarilal
Author: thekhabarilal

50% LikesVS
50% Dislikes
Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on skype
Share on whatsapp
Share on telegram

ताज़ा खबर

विद्यार्थी परिषद की नगर इकाई की बैठक हुई संपन्न

धानेपुर : बाबागंज आज अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद धानेपुर नगर इकाई की बैठक बाबागंज बाजार में संपन्न हुई बैठक का संचालन नगर मंत्री मुकेश तिवारी ने किया इस अवसर पर प्रवासी कार्यकर्ता के रूप में जिला संयोजक शिवम पांडे का रहना हुआ, उन्होंने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए बताया की

60 वर्षीय बुजुर्ग की मौत, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप पुलिस जांच में जुटी

60 वर्षीय बुजुर्ग की इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत, परिजनों ने विपक्षी गणो पर हत्या का लगाया आरोप ,पुलिस जांच में जुटी                                       इटियाथोक गोंडा – मोटरसाइकिल से बेटे के साथ

वरिष्ट अधिवक्ता के तेरहवी संस्कार में उपस्थित हुए दिग्गज नेता व संघठनो के पदाधिकारी

नवाबगंज : गोंडा विगत 14 नवबर को जनपद के वरिष्ट अधिवक्ता रमाकांत पाण्डेय का इलाज के दौरान हृदय गति रुक जाने की वजह से उनका निधन हो गया था, मिलन सार अथवा बेहद सरल व्यक्तित्व होने की वजह लोगों के बीच वे काफी लोक प्रिय थे, उनके निधन से कचेहरी

अजब गजब

जबरन घूस लेने वाले आबकारी इंस्पेक्टर पर दर्ज हो सकता है “मुकदमा”

वेद प्रकाश पाण्डेय की रिपोर्ट गोण्डा- फर्जी मुकदमे में फंसाने के प्रयास करने वाले आबकारी विभाग के भ्रष्ट आचरण के आरोपी राजकुमार यादव आबकारी इंस्पेक्टर

योनि संक्रमण से पीड़ित हुई पत्नी तो पति ने दे दिया तलाक़

अहमदाबाद– गुजरात के खेड़ा में तीन तलाक का हैरान करने वाला मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक, महिला को वेजाइनल इन्फेक्शन की शिकायत थी,

लोगों के बहुत चिरौरी करने पर भी नहीं माना दूल्हा तो मंडप से पंहुचा सीधा लॉकअप

ओम प्रकाश  की रिपोर्ट गोंडा- जहाँ दुनिया इतनी तेजी से तरक्की करते हुए नये आयामों को छू रही है तो गोंडा में आज भी छोटी

कोविड 19

Unlock 5 Guideline: देश में 1 अक्‍टूबर से अनलॉक-5 की शुरुआत, जानिए क्या खुलेगा और क्या रहेगा बंद

स्कूल, कॉलेज, शिक्षा संस्थान और कोचिंग संस्थान को चरणबद्ध तरीके से खोलने के लिए राज्य/केन्द्र शासित प्रदेश की सरकारों को निर्णय लेने की छूट दी

महामारी से बाल मजदूरी, बाल तस्करी और गुलामी में होगा इजाफा: नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने किया आगाह

आईएएनएस से साभार नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने आगाह किया है कि कोविड-19 महामारी के परिणामस्वरूप दुनियाभर में बाल श्रम, बाल तस्करी और दासता

दिल्ली मेट्रो का रास्ता साफ, उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सीएम केजरीवाल के प्रस्ताव को दी हरी झंडी

नई दिल्ली/ केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के चौथे फेज में खोली हैं मेट्रो सेवाएं। कोरोनावायरस महामारी के बीच 5 महीने से ज्यादा समय से बंद

संबंधित पोस्ट

चुनाव

तेजस्वी सूर्या के बयान पर ओवैसी का पलटवार, पूछा- अमित शाह सो रहे थे क्या, जो 30 हजार रोहिंग्या यहां बस गए?

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव में जुबानी जंग तेज हो गई है। AIMIM के मुखिया और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने भाजपा पर पलटवार वार किया है। उन्होंने कहा अगर 30,000 रोहिंग्या आए हैं तो गृहमंत्री अमित शाह कर क्या रहे हैं। सोमवार की शाम अपने प्रत्याशी का

खबरों का पोस्टमार्टम

सुशील मोदी नहीं बनेंगे बिहार के उप-मुख्यमंत्री, नीतीश कुमार होंगे मुख्यमंत्री, भाजपा की क्या है मजबूरी?

एनडीए में BJP के पास सबसे ज्यादा 74 विधायक हैं। जबकि जदयू के 43 विधायक हैं। वहीं सहयोगी दल हम और वीआईपी के पास 4-4 विधायक हैं। पटना- बिहार में सत्तारूढ़ गठबंधन एनडीए-NDA की रविवार को बैठक हुई। इसमें नीतीश कुमार को सर्वसम्मति से बिहार एनडीए विधायक दल का नेता

अपराध से शतर्क

गोण्डा: अपराधी बेलगाम, पुलिस चौकी से महज 250 मी. दूरी सभासद पर जानलेवा हमला

मात्र 250 मीटर दूर है पाण्डेय बाजार चौकी वेद प्रकाश पांडेय की रिपोर्ट गोंडा- जिले में अपराधियों को कानून का कोई डर नही रहा है। जिस तरह से जिले में अपराधिक वारदातें हो रही हैं उससे यह साबित हो रहा है कि जिले की पुलिस सरकार के अपराध मुक्त प्रदेश

चुनाव

यूपी पंचायत चुनाव 2020 : दीपावली बाद ग्राम प्रधान इलेक्शन की तैयारियां तेज करेगी भाजपा देखें पूरी रिपोर्ट

चन्द्र प्रकाश शुक्ला, भाजपा नेता की फेसबुक वाल से साभार विधानसभा उपचुनाव की सफलता के बाद प्रदेश भाजपा ने अपना ध्यान पंचायत चुनावों पर केंद्रित कर दिया है। गांवों की सरकार में मजबूत पैठ के लिए पार्टी ने कई स्तर पर तैयारियां पूरी भी कर ली हैं। दीपावली के बाद

चुनाव

BIHAR ELECTION: बहुमत न होने के बाद भी तेजस्वी का सरकार बनाने का दावा, क्या हैं विकल्प?

बिहार विधानसभा चुनावों के नतीजे आ गए हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में NDA ने 243 विधानसभा सीटों वाली विधानसभा में 125 सीटें हासिल की हैं। वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के नेतृत्व वाले महागठबंधन ने 110 सीटों पर जीत हासिल की है। आठ सीटें अन्य के खाते में

शहर और राज्य

इतना भयंकर हादसा, 14 की मौके पर मौत, सीएम योगी दुखी

प्रतापगढ़- उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में भीषण सड़क हादसा हुआ है। खड़ी ट्रक में तेंज रफ्तार बोलेरो जा घुसी है जिससे दुर्घटना में बोलेरो में सवार 14 बारातियों की दर्दनाक मृत्यु हो गई है। जानकारी के अनुसार नवाबगंज के शेखपुर गांव में बारात से ये लोग लौट रहे थे।

लेखपाल की धमकी व घूस मांगने से हुई है किसान की मौत, दर्ज हो मुकदमा – जेपीभैया

बाराबंकी- खेत में पराली जलाने पर लेखपाल ने किसान को कार्रवाई की धमकी दी। धमकी से सदमे में किसान की मौत हो गई। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। इस घटना पर किसान मजदूर सेना के संस्थापक जयप्रकाश दूबे उर्फ जेपीभैया ने बाराबंकी के जिला अधिकारी

गोण्डा: अपराधी बेलगाम, पुलिस चौकी से महज 250 मी. दूरी सभासद पर जानलेवा हमला

मात्र 250 मीटर दूर है पाण्डेय बाजार चौकी वेद प्रकाश पांडेय की रिपोर्ट गोंडा- जिले में अपराधियों को कानून का कोई डर नही रहा है। जिस तरह से जिले में अपराधिक वारदातें हो रही हैं उससे यह साबित हो रहा है कि जिले की पुलिस सरकार के अपराध मुक्त प्रदेश

गोंडा- BJP सरकार में अपहरण कुटीर उद्योग.. हत्या आम बात हो गई है, ओम प्रकाश राजभर का हमला

गोण्डा– BJP सरकार में अपहरण कुटीर उद्योग.. हत्या आम बात हो गई है, ओम प्रकाश राजभर का हमला गोंडा: यूपी के गोंडा जिले में आज सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर पहुचे। जिले में गौरा विभानसभा क्षेत्र के केशव नगर ग्रंट में आयोजित कार्यकर्ता समीक्षा बैठक

अधिवक्ता के बेटे की हुई हत्या, परिजनों ने सात लोग पर लगाया आरोप

सिद्धार्थनगर- जिले के डुमरियागंज थाना क्षेत्र के सेमरी गाँव मे अधिवक्ता के बेटे की हत्या कर दी गयी । परिजनों ने सात लोगो पर हत्या का आरोप लगाया है।तीन दिन पहले इन्हीं लोगो से विवाद हुआ था। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। घटनास्थल पर SP राम अभिलाष त्रिपाठी

पड़ताल

धानेपुर को नगर पंचायत का दर्जा मिलना लगभग तय, विधायक का प्रयास लगातार जारी

  मुजेहना, गोण्डा – मैहनौन विधानसभा से विधायक विनय कुमार द्रिवेदी “मुन्ना भैया” ने धानेपुर कस्बे को नगर पंचायत बनाने के लिये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से 20 अक्टूबर को मिलकर पत्र दिया था।  पत्र के आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने गोण्डाजिलाधिकारी से प्रस्ताव मांगा है। जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी सदर व

गोण्डा में करोड़ों का गबन, आखिर क्यों नही रुक रहा इस जिले में अपराध व भ्रष्टाचार?

गोण्डा- शासन द्वारा रोक के बाद भी तत्कालीन अध्यक्ष द्वारा नगर पालिका परिषद में अनियमित तरीके से अपने रिश्तेदारों के साथ ही अन्य 59 लोगों की अनियमित तरीके से नियुक्तियां कर दी गयीं। मामला अदालत में पहुंचा जिस पर उच्च न्यायालय द्वारा नियुक्तियों को निरस्त करते हुए वेतन भुगतान की

हाथरस मामले में नया मोड़, भाजपा के पूर्व विधायक का दावा- मां और भाई ने की थी बेटी की हत्या

अलीगढ-  हाथरस सामूहिक दुष्कर्म कांड पेचीदा होता जा रहा है। परिवार और पुलिस के अलग-अलग बयानों की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं है कि मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। शुक्रवार को भाजपा के पूर्व विधायक राजवीर सिंह पहलवान ने युवती की हत्या के लिए परिजनों को ही

पीएम किसान सम्मान योजना में 110 करोड़ का घोटाला, अफसरों-दलालों की मिलीभगत से हुआ खेल, कई अधिकारी नपे

नई दिल्ली- इस मामले में 18 एजेंटों को गिरफ्तार कर किसानों से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन में शामिल 80 अधिकारियों को हटा दिया गया है। इसके अलावा करीब 34 अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। इन अधिकारियों में कृषि विभाग के तीन असिस्टेंट डायरेक्टर भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री किसान

यूपी के प्रत्येक गांव का ड्रोन कैमरे से क्यों बन रहा फोटो नक्शा? सिद्धार्थनगर में भी काम शुरू

–परीक्षण के तौर पर सिद्धार्थनगर की नौगढ़ व बांसी तहसीलों के चार चार गांव चिन्हित किये गये, नौगढ़ (सदर) तहसील से शुरुआत -गोरखपुर, बस्ती, देवीपाटन आदि मंडलों के सभी जिलों में भी योजना पर काम जल्द होगा प्रररम्भ नजीर मलिक सिद्धार्थनगर- उत्तर प्रदेश के प्रत्येक गांव का अलग-अलग फोटो नक्शा

वायरल केंद्र

धानेपुर को नगर पंचायत का दर्जा मिलना लगभग तय, विधायक का प्रयास लगातार जारी

  मुजेहना, गोण्डा – मैहनौन विधानसभा से विधायक विनय कुमार द्रिवेदी “मुन्ना भैया” ने धानेपुर कस्बे को नगर पंचायत बनाने के लिये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से 20 अक्टूबर को मिलकर पत्र दिया था।  पत्र के आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय ने गोण्डाजिलाधिकारी से प्रस्ताव मांगा है। जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी सदर व

गोण्डा में करोड़ों का गबन, आखिर क्यों नही रुक रहा इस जिले में अपराध व भ्रष्टाचार?

गोण्डा- शासन द्वारा रोक के बाद भी तत्कालीन अध्यक्ष द्वारा नगर पालिका परिषद में अनियमित तरीके से अपने रिश्तेदारों के साथ ही अन्य 59 लोगों की अनियमित तरीके से नियुक्तियां कर दी गयीं। मामला अदालत में पहुंचा जिस पर उच्च न्यायालय द्वारा नियुक्तियों को निरस्त करते हुए वेतन भुगतान की

हाथरस मामले में नया मोड़, भाजपा के पूर्व विधायक का दावा- मां और भाई ने की थी बेटी की हत्या

अलीगढ-  हाथरस सामूहिक दुष्कर्म कांड पेचीदा होता जा रहा है। परिवार और पुलिस के अलग-अलग बयानों की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं है कि मामले में एक नया मोड़ सामने आया है। शुक्रवार को भाजपा के पूर्व विधायक राजवीर सिंह पहलवान ने युवती की हत्या के लिए परिजनों को ही

पीएम किसान सम्मान योजना में 110 करोड़ का घोटाला, अफसरों-दलालों की मिलीभगत से हुआ खेल, कई अधिकारी नपे

नई दिल्ली- इस मामले में 18 एजेंटों को गिरफ्तार कर किसानों से जुड़ी योजनाओं के क्रियान्वयन में शामिल 80 अधिकारियों को हटा दिया गया है। इसके अलावा करीब 34 अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है। इन अधिकारियों में कृषि विभाग के तीन असिस्टेंट डायरेक्टर भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री किसान

यूपी के प्रत्येक गांव का ड्रोन कैमरे से क्यों बन रहा फोटो नक्शा? सिद्धार्थनगर में भी काम शुरू

–परीक्षण के तौर पर सिद्धार्थनगर की नौगढ़ व बांसी तहसीलों के चार चार गांव चिन्हित किये गये, नौगढ़ (सदर) तहसील से शुरुआत -गोरखपुर, बस्ती, देवीपाटन आदि मंडलों के सभी जिलों में भी योजना पर काम जल्द होगा प्रररम्भ नजीर मलिक सिद्धार्थनगर- उत्तर प्रदेश के प्रत्येक गांव का अलग-अलग फोटो नक्शा