Menu
Menu
होम » चुनाव » पायलट गुट की याचिका पर सुनवाई जारी, जानिए हाईकोर्ट में अभी तक क्या-क्या हुआ

पायलट गुट की याचिका पर सुनवाई जारी, जानिए हाईकोर्ट में अभी तक क्या-क्या हुआ

thekhabarilal

thekhabarilal

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on skype
Share on whatsapp
Share on telegram

जयपुर: राजस्थान के सियासी संकट के बीच सचिन पायलट गुट की याचिका पर उच्च न्यायालय में सुनवाई चल रही है. विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी का पक्ष रखते हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सोमवार को कहा कि कोर्ट का इस मामले में क्षेत्राधिकार नहीं बनता है. विधायकों की अयोग्यता को लेकर अभी कोर्ट सुनवाई नहीं कर सकता है. ये अधिकार स्पीकर के पास है. सिंघवी ने कहा कि जब तक स्पीकर फैसला नहीं कर लेते कोर्ट इस मामले में दखल नहीं दे सकता है. दरअसल, स्पीकर ने पायलट समेत बागी विधायकों को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए पूछा था कि उन्हें क्यों अयोग्य नहीं ठहराया जाना चाहिए. इस नोटिस के खिलाफ विधायकों ने हाईकोर्ट का रुख किया. 

सुनवाई के दौरान सिंघवी ने झारखंड के मामले का उदाहरण दिया. सिंघवी ने कहा कि यह केस ज्यूडिशियल रिव्यू के दायरे में नहीं आता है. स्पीकर के आदेश को लिमिटेड ग्राउंड पर ही चुनौती दी जा सकती है, लेकिन याचिका में वो ग्राउंड मौजूद नहीं है. विधायकों की याचिका अपरिपक्व है. 

सिंघवी ने अपनी बात दोहराते हुए कहा कि जब तक विधायकों के खिलाफ अयोग्यता पर स्पीकर कोई फैसला नहीं लेते तब तक कोर्ट में इसमें दाखिल नहीं दे सकता है. उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के पहले के फैसलों का हवाला दिया कि स्पीकर के फैसलों की न्यायिक समीक्षा सीमित मुद्दों पर हो सकती है. सिंघवी ने हाल ही के मणिपुर के केशम मेघचंद्र सिंह के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का हवाला देते हुए कहा कि अयोग्यता नोटिस पर निर्णय स्पीकर को ही लेना है. 

सिंघवी ने अपनी दलील में कहा कि स्पीकर सही या गलत कर सकता है. स्पीकर को गलत होने का अधिकार है. यह याचिका स्पीकर द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस पर आधारित है. जब तक स्पीकर ने आपको अयोग्य नहीं ठहराया, आप अदालत से संपर्क नहीं कर सकते हैं. सिंघवी ने अमृता रावत बनाम उत्तराखंड विधानसभा 2016 के कोर्ट के फैसले का उदाहरण देते हुए कहा कि कोर्ट ने इस मामले में याचिका को खारिज किया था, जिसमें स्पीकर के फैसले को चुनोती दी गई थीं. स्पीकर ने इस मामले में विधायक को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. जिसको अदालत में चुनौती दी गई थी. दिल्ली के आप विधायक देविंदर सहरावत केस का हवाला दिया. 

सिंघवी ने कहा स्पीकर ने अभी तक फैसला नही लिया है. स्पीकर द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस पर रोक नही लगाई जा सकती है. अभी भी 19 विधायकों के खिलाफ जारी हुए नोटिस पर कोई फैसला नही हुआ है, लिहाजा कोर्ट अभी इस मामले में दखल नहीं दे सकता है. उन्होंने कहा कि 19 विधायकों के केस अलग अलग है. स्पीकर सभी केसों को अलग अलग देखेंगे.
 
इससे पहले, राजस्थान हाईकोर्ट ने शुक्रवार को सचिन पायलट और अन्य बागी विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने संबंधी नोटिस को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए नोटिस पर प्रस्तावित कार्रवाई मंगलवार तक बढ़ा दी थी. बागी विधायकों की ओर से पेश वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने शुक्रवार को कोर्ट के सामने पक्ष रखा था. 

पायलट और बागी विधायकों की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने शुक्रवार को अपनी दलील में कहा था, “सदन के बाहर किए गए कृत्यों के संबंध में व्हिप के निर्देशों का उल्लंघन दल-बदल विरोधी कानून के दायरे में नहीं आता है.” उन्होंने कहा कि “मुख्यमंत्री का तानाशाही रवैये से काम करना एक आंतरिक मामला है.” अयोग्य ठहराने संबंधी नोटिस ‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता’ और आंतरिक चर्चा को रोकने का प्रयास है. 

thekhabarilal
Author: thekhabarilal

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on skype
Share on whatsapp
Share on telegram

ताज़ा खबर

पायलट गुट की याचिका पर सुनवाई जारी, जानिए हाईकोर्ट में अभी तक क्या-क्या हुआ

जयपुर: राजस्थान के सियासी संकट के बीच सचिन पायलट गुट की याचिका पर उच्च न्यायालय में सुनवाई चल रही है. विधानसभा अध्यक्ष सी पी जोशी का पक्ष रखते हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सोमवार को कहा कि कोर्ट का इस मामले में क्षेत्राधिकार नहीं बनता है. विधायकों की अयोग्यता को लेकर

किस तरह खेला जाएगा IPL 2020, पता चल गया है!

आईपीएल 2020, 19 सितंबर से लेकर 10 नवंबर के बीच संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में खेला जा सकता है. इसको लेकर अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. बोर्ड ऑफ़ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (BCCI) ने अमीरात क्रिकेट बोर्ड (ECB) को ‘लेटर ऑफ इंटेंट’ भेजा है, जिसमें IPL को

झमाझम

धोखाधड़ी और लॉकडाउन उल्लंघन के आरोप में राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी का अध्यक्ष गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश का मथुरा. यहां राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी के अध्यक्ष अनुराग भृगुवंशी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उसके ख़िलाफ़ हत्या का प्रयास, पुलिस

कोविड 19

संबंधित आलेख:

धोखाधड़ी और लॉकडाउन उल्लंघन के आरोप में राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी का अध्यक्ष गिरफ्तार

उत्तर प्रदेश का मथुरा. यहां राष्ट्रीय युवा हिंदू वाहिनी के अध्यक्ष अनुराग भृगुवंशी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उसके ख़िलाफ़ हत्या का प्रयास, पुलिस को धमकी देना, महिला के साथ धोखाधड़ी-छेड़छाड़ और लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप हैं. उसे लखनऊ से गिरफ्तार कर 31 जुलाई को

विशाखापत्तनम: हिंदुस्तान शिपयार्ड में भारी भरकम क्रेन गिरने से 10 लोगों की मौत, बढ़ सकती है संख्या

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम से खबर है. यहां पर एक बड़ी क्रेन गिरने से कम से कम 10 लोगों की मौत हो गई है. हालांकि यह शुरुआती आंकड़ा है. ये आंकड़ा बदल सकता है. हादसा हिंदुस्तान शिपयार्ड लिमिटेड में हुआ. पुलिस ने बताया कि क्रेन की मरम्मत हो रही थी. जब

किस तरह खेला जाएगा IPL 2020, पता चल गया है!

आईपीएल 2020, 19 सितंबर से लेकर 10 नवंबर के बीच संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में खेला जा सकता है. इसको लेकर अभी तक आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है. बोर्ड ऑफ़ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (BCCI) ने अमीरात क्रिकेट बोर्ड (ECB) को ‘लेटर ऑफ इंटेंट’ भेजा है, जिसमें IPL को